Responsive Header Nav
Teli
Sant Santaji Maharaj Jagnade
Sant Santaji Maharaj Jagnade संत संताजी महाराज जगनाडे
About TeliIndia TeliIndia.com हि साईट तेली गल्‍ली मासिकाची आहे. आपण वधु-वराचे नाव कोणत्‍या ही फी शिवाय नोंदवु शकता. तेली समाज वधु - वर विश्‍वाच्‍या सेवेची 40 वर्षींची परंपरा.
Contact us मदती साठी संपर्क करू शकता
अभिजित देशमाने, +91 9011376209,
मोहन देशमाने, संपादक तेली गल्‍ली मासिक +91 9371838180
Teli India, Pune Nagre Road, Pune, Maharashtra Mobile No +91 9011376209, +91 9011376209 Email :- Teliindia1@gmail.com

छत्तीसगढ़ में साहू समाज की शाखाएं

1) झरिया शाखा , 2) हरदिहा शाखा, 3) राठौर शाखा,  4) रंगहा, 5) तेली वैश्य शाखा, 6) तरहाने तेली शाखा इत्यादी प्रमुख शाखा  है । 

1) झरिया शाखा :- इस शाखा को झेरिया या झिरिया भी कहते है । सर्वाधिक जनसंख्या इसी शाखा के लोग मूलत: किसान है ।

2) हरदिहा शाखा :- इस शाखा के लोग रायपुर नगर के आस -पास, धमतरी एवं दुर्ग जिला के धमधा क्षेत्र में निवासरत है । अंग्रेजो ने अपने प्रविेदनों में इन्हें हलिया उल्लेखित करते हुये श्रेष्ठ कृषक भी कहा है । पूर्व विधायक श्री नंद कुमार साहू इसी शाखा से हैं । सन 1931 के जनगणना में इनकी जनसंख्या 1.44 प्रतिशत बतायी गई है ।

3) राठौर शाखा :- इस शाखा के लोग जांजगीर जिला के सक्ती क्षेत्र में निवासरत है । ये अपने आपको क्षत्रिय तेली मानते है । रायपुर के प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ. सोमनाथ साहु असी शाखा से है । अस शाखा की श्रीमती सरोजा राठौर सक्ती से विधायक है ।

4) रंगहा :- इस शाखा के लोगों की संख्या कम है तथा रायुपर, दुर्ग एवं राजनांदगांव जिला में हैं । इस शाखा को मराठा दुबैलिया भी कहते है । इनके पुर्वज अंग्रेज काल मैं नागपुर, वर्धा क्षेत्र से आये थे और तेल का व्यवसाय करते थे । वर्तमान में किसान हैं । 

5) तेली वैश्य शाखा : - इस शाखा के लोग व्यवसायी है और, रायपुर, दुर्ग, बिलासपुर, महासमुंइ, बालौदाबाजार, इत्यादि शहरों में ही निवासरत हैं ।

6) तरहाने तेली शाखा :- इस शाखा के लोग मूलत: महाराष्ट्र के हैं, जो बडे शहरों में निवासरत हैं । स्व. नारायण राव अंबिलकर इसी शाखा के थैे जो छत्तीसगढ साहू संघ के अध्यक्ष एवं अभनपुर विधान सभा के विधायक निर्वाचक हुये थे ।

copy right © 2017 www.Teliindia.com व तेली गल्‍ली
Facebook Tweet Google+
Teli
या साईटवरील सर्व साहित्‍य हे तेली गल्‍ली मासिकात 40 वर्षेत प्रसिद्ध झाले आसुन. सदरसाहित्‍य कोठेही प्रकाशित वा मुद्रीत करण्‍़यास मनाई आहे. सर्व हक्‍क तेली गल्‍ली मासिकाचे आहेत
copy right © 2017 www.Teliindia.com व तेली गल्‍ली
Teli Samaj all News Articles